Skip to main content

श्रदा

*परमात्मा के पास बैठिये*
*इतने गहरे भाव से कि*
*आँसू आ जाएँ,*
*किसी प्रकार की कोई आकांक्षा*
*या मांग न रखें,*
*परमात्मा का होना ही आशीर्वाद है*
*मांगना नहीं पड़ता*
*उनके पास होने से ही सब मिल जाता है।*
*जैसे फूल के पास जाओ*
*खुशबू अपने आप ही मिलने लगती है*
*परमात्मा ने सारी व्यवस्था पहले ही की हुई है*
*मांगने की जरूरत ही नही है*
*बस उनके पास जाना है,*
*उनकी शरणागति स्वीकार कर लेना*
*उनके बताये मार्ग पर चलना*
*हमारा कर्तव्य बस इतना ही है*
*बाकी सब कुछ स्वयं ही हो जाता है।*

*बोलो साईं नाथ महाराज की जय* 🙏🏻🌹🍂

Comments

Popular posts from this blog

Jindgi

*लोग जल जाते हैं मेरी मुस्कान पर क्योंकि*
*मैंने कभी दर्द की नुमाइश नहीं की* *जिंदगी से जो मिला कबूल किया*
*किसी चीज की फरमाइश नहीं की* *मुश्किल है समझ पाना मुझे क्योंकि*
*जीने के अलग है अंदाज मेरे**जब जहां जो मिला अपना लिया*
*ना मिला उसकी ख्वाहिश नहीं की।*.                                                 🙏

जमाने

"धीरे धीरे उम्र कट जाती हैं!
"जीवन यादों की पुस्तक बन जाती है!"कभी किसी की याद बहुत तड़पाती है!
"और कभी यादों के सहारे जिंदगी कट जाती है!"किनारो पे सागर के खजाने नहीं आते!
"फिर जीवन में दोस्त पुराने नहीं आते!"जी लो इन पलों को हंस के दोस्तो
"फिर लौट के दोस्ती के जमाने नहीं  आते!!

Mee

2131427653 Create By : https://play.google.com/store/apps/details?id=com.fotoglobal.colorsplash